BBC Hindi – चीन ने गलवान घाटी में अपनी सेना को भेजकर सोचा था, भारत 1962 की तरह रक्षात्मक हो जाएगा, लेकिन हुआ इसका उलटा

BBC Hindi – China had sent its troops to the Galvan Valley, thinking India would be defensive like 1962, but the opposite happened, BBC Hindi News.

BBC Hindi – पिछले 58 वर्षों से, चीनी प्रचार मशीन या मनोवैज्ञानिक युद्ध मशीन ने भारतीय सेना को रक्षात्मक और बड़े पैमाने पर राष्ट्र को यह बताने के लिए 1962 के सीमा संघर्ष का इस्तेमाल किया है कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) युद्ध के मैदान पर भारतीय सेना से बहुत बेहतर है।

BBC Hindi, India China Border Issue at Ladakh Region LAC, BBC Hindi News
BBC Hindi, India China Border Issue at Ladakh Region LAC, BBC Hindi News

यह वही मानसिकता है, जिससे PLA ने पैंगॉन्ग त्सो के उत्तरी तट पर फिंगर 4 पहाड़ी क्षेत्र के साथ-साथ गलवान घाटी में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास सीमा रेखा का उल्लंघन किया है। हालाँकि, चीनी सेना ने गलवान घाटी के साथ-साथ झील के दोनों किनारों पर पीछे रह गई, जबकि भारतीय सेना ने अहम रणनीतिक चोटियों पर क़ब्ज़ा कर लिया। इससे घबरा कर चीन और उसका सरकारी मीडिया Global Times लगातार भारत को युद्ध की धमकी दे रहा है।

Latest BBC Hindi News : India China Border Issue at Ladakh Region LAC

भारतीय सेना ने 29 30 अगस्त के दौरान ब्लैक टॉप, पंगंग त्सो की रणनीतिक चोटियों पर क़ब्ज़ा कर लिया, इसके बाद चीनी सेना ने इसके दक्षिण में एक एंटी-एयरक्राफ्ट गन लगाने का फैसला किया और भारतीयों को डराने के लिए मुख्य युद्धक टैंकों को उतारा। PLA प्रचार मशीन भारत के साथ युद्ध के लिए चिल्ला रही है, यह महसूस किए बिना कि वर्तमान युद्ध के उपकरण मॉडर्न हथियार हैं और टैंक जैसे हथियार विश्व युद्ध II की मशीनें हैं।

Read More :   DGCI की अनुमति के बाद सीरम इंस्टीट्यूट भारत में भी कोविड-19 वैक्सीन का परीक्षण फिर से शुरू करेगा - BBC Hindi

मास्कों में भारत और चीन दोनों ने अपने विदेश मंत्रियों के माध्यम से लद्दाख से अपनी सेना को विघटन करने का फैसला किया है। सेना को विघटन करना बहुत जटिल है और दोनों कोर कमांडरों के सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद इसमें समय लगेगा।

You are Reading : BBC Hindi News

विघटन इस तरह से किया जाना है कि यह आपसी सुरक्षा प्रदान करता है और भारतीय सेना द्वारा बेहतर सीमा अवसंरचना के कारण खाली पड़ी ज़मीन पर चीनी सेना को कब्जा करने का मौका नहीं देता है। अभी के लिए सबसे अच्छा विकल्प यथास्थिति बनाए रखना है, जो अप्रैल की शुरुआत में मौजूद था और इससे कम कुछ भी नहीं है।

चीन बार बार भारत को 1962 के नुकसान के बारे में याद दिला रहा है, तथ्य यह है कि वर्तमान भारतीय सेना .303 ली एनफील्ड बोल्ट एक्शन राइफल्स, लाइट मशीन गन, तीन इंच मोर्टार और लाइट टैंक के साथ नहीं लड़ती है। लद्दाख में एक पारदर्शी युद्धक्षेत्र निश्चित रूप से बीजिंग में चीनी शासक को बताएगा कि 1962 के युद्ध के दौरान पैंगोंग त्सो के उत्तर और दक्षिण में भारतीय सेना की तैनाती नही थी।

Read More :   BBC Hindi - चीन से अमेरिका भागी वायरोलॉजिस्ट ने सबूत के साथ कहा की चीन सरकार द्वारा नियंत्रित वुहान लैब में कोरोना वायरस को बनाया गया है

BBC Hindi

शीर्ष भारतीय राजनयिकों और सैन्य कमांडरों का स्पष्ट कहना है कि अगर चीनी सेना द्वारा युद्ध के लिए मजबूर किया जाता है, तो 1962 के युद्ध की तुलना में दोनों पक्षों के द्वारा युद्ध में स्टैंडऑफ हथियारों, लेजर-निर्देशित बमों और दृश्य मिसाइलों के उपयोग के कारण दोनों तरफ़ बहुत ज़्यादा सैनिक शहीद होंगे।

आज के समय में जमीन पर पकड़ रखने के लिए टैंकों और सैनिकों की बहुत कम भूमिका होगी। क्षेत्र पर कब्जा करने के लिए बड़े हथियार और रॉकेट युद्ध में इस्तेमाल होंगे।

BBC Hindi

भले ही चीनी शासक और उनके पश्चिमी थिएटर कमांडर दुनिया को यह साबित करने की महत्वाकांक्षा के साथ अंधे हो गए हैं, कि एक नई वैश्विक शक्ति आ गई है। भारत के पास इस युद्ध को लड़ने और जीतने के लिए पहले से बेहतर और पर्याप्त हथियार हैं। ऐसे में अगर चीन LAC में किसी भी तरह का भड़काऊ काम करता है, तो उसे मुँहतोड़ जवाब मिलना तय है। जैसे की अभी हाल ही में सेना के उलझने से जहाँ भारत के 20 जवान शहीद हुए थे, वही चीन के 43 जवानों की मौत हुई। अमेरिका की मीडिया एजेन्सी “NewsWeek” की रिपोर्ट के मुताबिक़ इस लड़ाई में चीनी सेना के कम से कम 63 जवानों की मौत हुई थी।

Read More :   अफगान-तालिबान शांति वार्ता 'शांति का एक अवसर' है - BBC Hindi

BBC Hindi News India China Conflict

भारत की एक मजबूत प्रतिक्रिया वन चाइना पॉलिसी को उजागर कर सकती है। साथ ही युद्ध में किसी एक पक्ष को नुक़सान नही होता बल्कि नुक़सान बहुत व्यापक और दोनों पक्षों को होता है, इसलिए यह भी हो सकता है की नई दिल्ली को भी काफ़ी नुक़सान उठाना पड़े।

इसलिए अब समय आ गया है, कि बीजिंग LAC की वास्तविकता को जानें और अपनी करतूत से बाज़ आए, नही तो भारतीय सेना भी युद्ध के लिए तैयार ही बैठी है।

चीन को अब समझ में आने लगा है कि वह एक ऐसी सेना के साथ टकरा कर रहा है, जो 1984 से 24,000 फीट की ऊंचाई पर लड़ रही है और कश्मीर और पूर्वोत्तर में स्वतंत्रता के बाद से विद्रोह से निपटने में सक्षम रही है। 1962 का युद्ध अब भारतीय सेना को रक्षात्मक नहीं बनाता है, यह सेना को और प्रोत्साहित करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *