Western Peripheral Expressway – 11 चीजें जो आपको KMP Expressway के बारे में जानना चाहिए

Kundli–Manesar–Palwal Expressway : जिससे दिल्ली में यातायात की भीड़ और प्रदूषण कम होने की उम्मीद है। KMP Expressway सिक्स-लेन एक्सप्रेसवे है, जिसे Western Peripheral Expressway (वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे) के रूप में भी जाना जाता है, का उद्घाटन 19 नवंबर 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। आपको बता दें की Western Peripheral Expressway को पूरा होने में 15 साल लगे हैं।

Western Peripheral Expressway

Facts About Western Peripheral Expressway

आज हम आपको KMP Expressway के facts बताने वाले हैं। हम आपको बताएँगे Facts About Western Peripheral Expressway

  1. KMP Expressway को Western Peripheral Expressway के नाम से भी जाना जाता है। इससे दिल्ली में यातायात और प्रदूषण कम होने की उम्मीद है क्योंकि उत्तर भारत से देश के पश्चिमी और दक्षिणी हिस्सों में आने-जाने वाले वाहन राजधानी से गुजरे बिना इस KMP Expressway से जा सकेंगे।
  2. Western Peripheral Expressway परियोजना 2003 में प्रस्तावित की गई थी। KMP Expressway 2009 तक पूरा होने की उम्मीद थी, लेकिन भूमि अधिग्रहण सहित कई बाधाओं की वजह से कई बार इसकी समय सीमा को आगे बढ़ाया गया। 2014 में सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश के बाद काम फिर से शुरू हुआ और अब जाके पूरा हुआ।
  3. शुरुआत में, सोनीपत में कुंडली से फरीदाबाद के पास पलवल तक 135.6 किमी तक Western Peripheral Expressway को चार लेन बनाने की योजना थी, लेकिन बाद में इसका विस्तार छह लेन तक कर दिया गया।
  4. छह-लेन एक्सप्रेसवे, जिसकी लागत 9000 करोड़ रुपये है – निर्माण पर 6,400 करोड़ रुपये और भूमि अधिग्रहण करने के लिए 2,988 करोड़ रुपये, पार्किंग स्थल, रिफ़िलिंग स्टेशन, पुलिस स्टेशन, एक ट्रॉमा सेंटर, हेलीपैड, जलपान केंद्र और मनोरंजन सुविधाएँ होंगी।
  5. इस Western Peripheral Expressway में एंबुलेंस, रेन और हेल्पलाइन नंबर के साथ एक पुलिस गश्ती वाहन हर 20 किमी में दुर्घटनाओं या आपात स्थिति के मामले में त्वरित प्रतिक्रिया के लिए तैनात किया गया है।
  6. Kundli Manesar Palwal Expressway का मानेसर-पलवल खंड, जो इस साल के शुरू में खोला गया है, 52.33 किलोमीटर लंबा है और इसमें 32 कृषि अंडरपास, तीन चौराहे और चार टोल प्लाजा हैं। 83 किलोमीटर लंबे कुंडली-मानेसर खंड में छह पुलिया, 35 अंडरपास, 21 वाहन अंडरपास, 23 रेलवे क्रॉसिंग और 38 पैदल यात्री क्रॉसिंग हैं।
  7. KMP Expressway की पूरी सड़क को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि हल्के वाहन 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकते हैं, जबकि भारी वाहन 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से जा सकते हैं।
  8. KMP Expressway पांच जिलों – सोनीपत, झज्जर, गुरुग्राम, मेवात और पलवल को कवर करेगा। Kundli Manesar Palwal Expressway के खुलने से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में यातायात की भीड़ कम हो जाएगी जबकि उत्तरी और दक्षिणी हरियाणा को एक उच्च गति वाला लिंक रोड मिलेगा।
  9. केएमपी एक्सप्रेसवे के परियोजना निदेशक विलास मिशल के अनुसार, क्रॉसिंग सड़क और NH में से किसी को भी एक्सप्रेसवे के निर्माण करते समय अवरुद्ध नहीं किया गया था।
  10. KMP Expressway में मडस्लाइड्स को रोकने के लिए, वेटीवर (खुस) घास, जिसमें मजबूत और गहरी जड़ें होती हैं, लगाई गई हैं। वेइटिवर कार्बन डाइऑक्साइड की एक बड़ी मात्रा का भी अवशोषण करके प्रदूषण कम करने में मदद करता है। यह पर्यावरण के अनुकूल पौधा है।
  11. KMP Expressway के बीचों-बीच मध्यरेखा में दो पंक्तियों की झाड़ियाँ लगाई जाएंगी और किनारों पर नीम, अर्जुन, और शीशम जैसे पेड़ों की दो पंक्तियाँ लगाई जाएंगी, जबकि एक्सप्रेसवे के सौंदर्य को बेहतर बनाने के लिए विभिन्न स्थानों पर फव्वारे, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक स्मारक बने हैं।
Read More :   Chambal Expressway : मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और राजस्थान को जोड़ने के लिए बनेगा चंबल एक्सप्रेस वे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *