भारत की प्रथम महिला मुख्य न्यायाधीश कौन थीं? | First Woman Chief Justice of India

भारत की प्रथम महिला मुख्य न्यायाधीश: भारत के न्यायिक इतिहास में कई महत्वपूर्ण मील के पत्थर हैं, लेकिन इनमें से एक प्रमुख उपलब्धि भारत की प्रथम महिला मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति थी। यह न केवल न्यायिक प्रणाली के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ था, बल्कि यह महिलाओं के लिए एक प्रेरणादायक उदाहरण भी है, जो न्यायपालिका में अपनी पहचान बनाने की आकांक्षा रखती हैं। आइए जानते हैं:

भारत की प्रथम महिला मुख्य न्यायाधीश | First Woman Chief Justice of India

भारत की प्रथम महिला मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति लीला सेठ थीं। उन्होंने 5 अगस्त 1991 में हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय में मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली थी। न्यायमूर्ति लीला सेठ ने न्यायिक प्रणाली में कई महत्वपूर्ण योगदान दिए और महिलाओं के अधिकारों के लिए भी महत्वपूर्ण कार्य किए।

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

लीला सेठ का जन्म 20 अक्टूबर 1930 को लखनऊ, उत्तर प्रदेश में हुआ था। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा लखनऊ और कोलकाता में पूरी की। उनकी शिक्षा की यात्रा कठिनाइयों और चुनौतियों से भरी हुई थी, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और अंततः कानून की पढ़ाई करने का निर्णय लिया। उन्होंने लंदन में इन्स ऑफ कोर्ट से अपनी बैरिस्टर की डिग्री प्राप्त की।

न्यायिक करियर की शुरुआत

लीला सेठ का न्यायिक करियर 1959 में शुरू हुआ, जब उन्होंने बार में शामिल होकर कानूनी प्रैक्टिस शुरू की। अपनी कड़ी मेहनत और प्रतिबद्धता के चलते, उन्होंने जल्द ही अपनी पहचान बना ली और 1978 में दिल्ली हाईकोर्ट की पहली महिला न्यायाधीश बनीं। यह उस समय की महत्वपूर्ण उपलब्धियों में से एक थी, जब महिलाओं को न्यायपालिका में महत्वपूर्ण भूमिकाएं नहीं दी जाती थीं।

मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति

सुश्री लीला सेठ की नियुक्ति 5 अगस्त 1991 में हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट की मुख्य न्यायाधीश के रूप में की गई। वह इस पद को संभालने वाली पहली महिला थीं, जो भारतीय न्यायपालिका के इतिहास में एक ऐतिहासिक मोड़ था। उनकी नियुक्ति न केवल महिला सशक्तिकरण का प्रतीक थी, बल्कि यह भी दर्शाती है कि योग्य महिलाएं किसी भी उच्चतम पद को प्राप्त कर सकती हैं।

उनके योगदान और विरासत

मुख्य न्यायाधीश के रूप में, लीला सेठ ने कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए और न्यायपालिका की प्रक्रिया को अधिक पारदर्शी और प्रभावी बनाने के लिए प्रयास किए। उन्होंने बाल कल्याण और महिला अधिकारों के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनकी लेखनी भी प्रभावशाली थी; उन्होंने अपनी आत्मकथा “On Balance” में अपने जीवन और न्यायिक अनुभवों को साझा किया।

पुरस्कार और सम्मान

लीला सेठ को उनके योगदान के लिए कई पुरस्कार और सम्मान प्राप्त हुए। उनकी न्यायिक सेवा और सामाजिक कार्यों को मान्यता देते हुए, उन्हें विभिन्न मंचों पर सम्मानित किया गया। उनकी उपलब्धियां न केवल न्यायपालिका के लिए महत्वपूर्ण हैं, बल्कि समाज के सभी वर्गों के लिए प्रेरणास्रोत हैं।

भारत के विभिन्न उच्च न्यायालयों में पहली महिला मुख्य न्यायाधीश | First Female Chief Justices in India

यहां भारत के विभिन्न उच्च न्यायालयों की कुछ प्रथम महिला मुख्य न्यायाधीशों की सूची उनके नाम और कार्यकाल वर्षों के साथ दी गई है:

क्र. सं.नामकोर्ट का नामकार्यकाल शुरू (Term Start)कार्यकाल समाप्ति (Term End)
1.लीला सेठहिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय5 अगस्त 1991अक्टूबर 1992
2.कांता कुमारी भटनागरमद्रास उच्च न्यायालय20 जून 199224 अक्टूबर 1994
3.जी. रोहिणीदिल्ली उच्च न्यायालय20142017
4.रूमा पालकलकत्ता उच्च न्यायालय28 जनवरी 20002 जून 2006
5.रंजना देसाईबॉम्बे उच्च न्यायालय13 सितम्बर 201129 अक्टूबर 2014
6.रेखा मित्तलपंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय20222023
7.ज्ञान सुधा मिश्राझारखंड उच्च न्यायालय30 अप्रैल 201027 अप्रैल 2014
8.हिमा कोहलीतेलंगाना उच्च न्यायालय7 जनवरी 2021चल रहा है
9.बेला त्रिवेदीगुजरात उच्च न्यायालय31 अगस्त 2021चल रहा है
10.बी.वी. नागरत्नाकर्नाटक उच्च न्यायालय31 अगस्त 20212027 में संभावित CJI

निष्कर्ष

भारत की प्रथम महिला मुख्य न्यायाधीश के रूप इनका योगदान न केवल न्यायपालिका के इतिहास में महत्वपूर्ण है, बल्कि यह महिलाओं के लिए एक प्रेरणादायक उदाहरण भी है। उनकी कहानी बताती है कि दृढ़ संकल्प, कड़ी मेहनत और उच्च लक्ष्यों को प्राप्त करने की इच्छा से कोई भी व्यक्ति महानता हासिल कर सकता है। उनका जीवन और करियर आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा स्रोत बने रहेंगे।

इस प्रकार, लीला सेठ का नाम भारतीय न्यायपालिका के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखा गया है और उनकी उपलब्धियों को सदैव सम्मान और गर्व के साथ याद किया जाएगा।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Scroll to Top