Facts About Diwali in Hindi (दिवाली के रोचक तथ्य) जो आपको नही पता होंगे

Facts About Diwali in Hindi: दिवाली, जिसे दीपावली भी कहा जाता है, भारत के सबसे बड़े और महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। यह त्योहार न केवल धार्मिक महत्व रखता है, बल्कि भारतीय संस्कृति, परंपराओं और सामाजिक एकता का प्रतीक भी है। आइए, जानते हैं दिवाली के बारे में कुछ अद्भुत, रोचक, कम ज्ञात, चौंकाने वाले और अज्ञात तथ्य।

Diwali Facts in Hindi (दिवाली के रोचक तथ्य) जो आपको नही पता होंगे

दिवाली के अद्भुत तथ्य (Diwali Amazing Facts in Hindi)

  1. दिवाली का शाब्दिक अर्थ: ‘दिवाली’ शब्द संस्कृत के ‘दीपावली’ से लिया गया है, जिसका अर्थ है ‘दीपों की पंक्ति’। यह त्योहार अंधकार पर प्रकाश की विजय का प्रतीक है।
  2. पांच दिवसीय उत्सव: दिवाली केवल एक दिन का त्योहार नहीं है। यह पांच दिनों तक चलता है: धनतेरस, नरक चतुर्दशी, दिवाली, गोवर्धन पूजा और भाई दूज। हर दिन का अपना विशेष महत्व और अनुष्ठान होता है।
  3. धनतेरस का महत्व: दिवाली की शुरुआत धनतेरस से होती है। इस दिन लोग नए बर्तन, आभूषण और अन्य वस्तुएं खरीदते हैं, जो समृद्धि और शुभता का प्रतीक माना जाता है।
  4. लक्ष्मी पूजा: दिवाली की रात को मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। लोग अपने घरों को साफ-सुथरा और सुंदर बनाते हैं ताकि देवी लक्ष्मी उनके घर में प्रवेश कर सकें और उन्हें आशीर्वाद दें।
  5. गणेश पूजा: मां लक्ष्मी के साथ भगवान गणेश की भी पूजा की जाती है। गणेश जी को ‘विघ्नहर्ता’ कहा जाता है, जो सभी बाधाओं को दूर करते हैं और सुख-समृद्धि प्रदान करते हैं।

दिवाली के रोचक तथ्य (Diwali Interesting Facts in Hindi)

  1. रंगोली की परंपरा: दिवाली के दौरान घरों के आंगन और प्रवेश द्वार पर रंगोली बनाई जाती है। इसे शुभ माना जाता है और यह त्योहार की खुशियों को बढ़ाता है।
  2. पटाखों का महत्व: दिवाली पर पटाखे फोड़ने की परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है। यह रिवाज बुराई और नकारात्मकता को दूर भगाने का प्रतीक है।
  3. दीप जलाने की परंपरा: दीपावली पर दीप जलाने का रिवाज भी है। दीपक का प्रकाश अज्ञानता से ज्ञान की ओर, अंधकार से प्रकाश की ओर, और बुराई से अच्छाई की ओर जाने का प्रतीक है।
  4. दिवाली और रामायण: हिंदू पौराणिक कथा के अनुसार, दिवाली भगवान राम के 14 वर्षों के वनवास के बाद अयोध्या लौटने की खुशी में मनाई जाती है। अयोध्यावासियों ने उनके स्वागत में घरों और सड़कों पर दीप जलाए थे।
  5. कुबेर पूजा: कुछ स्थानों पर धन के देवता कुबेर की भी पूजा की जाती है। इससे घर में धन-धान्य की वृद्धि होती है।

दिवाली के कम ज्ञात तथ्य (Diwali Less Known Facts in Hindi)

  1. जैन धर्म में दिवाली: जैन धर्म में भी दिवाली का विशेष महत्व है। इसे भगवान महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाया जाता है।
  2. सिख धर्म में दिवाली: सिख समुदाय के लिए दिवाली ‘बंदी छोड़ दिवस’ के रूप में महत्वपूर्ण है। इस दिन गुरु हरगोबिंद जी को मुगल शासक जहांगीर ने ग्वालियर के किले से रिहा किया था।
  3. नेपल में तिहार: नेपाल में दिवाली को ‘तिहार’ के नाम से जाना जाता है। यह पांच दिनों तक चलने वाला त्योहार है, जिसमें पशु-पक्षियों की भी पूजा की जाती है।
  4. तमिलनाडु में दीपावली: तमिलनाडु में दिवाली को ‘नरक चतुर्दशी’ के रूप में मनाया जाता है। यह भगवान कृष्ण द्वारा नरकासुर राक्षस के वध का प्रतीक है।
  5. बंगाल में काली पूजा: बंगाल में दिवाली के दिन काली पूजा की जाती है। देवी काली को शक्ति का प्रतीक माना जाता है और उनकी आराधना की जाती है।

दिवाली के चौंकाने वाले तथ्य (Diwali Mind Blowing Facts in Hindi)

  1. दीपावली का वैश्विक प्रभाव: दिवाली केवल भारत में ही नहीं, बल्कि विश्व के कई देशों में भी धूमधाम से मनाई जाती है। अमेरिका, इंग्लैंड, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में भारतीय समुदाय इस त्योहार को बड़े उल्लास के साथ मनाता है।
  2. सबसे लंबी दिवाली की माला: 2011 में हरियाणा के फरीदाबाद में 12,000 दीयों से बनी सबसे लंबी दिवाली की माला का विश्व रिकॉर्ड बनाया गया था।
  3. पर्यावरण पर प्रभाव: पटाखों के कारण दिवाली के समय वायु और ध्वनि प्रदूषण में अत्यधिक वृद्धि होती है। इसलिए अब पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए ‘ग्रीन दिवाली’ मनाने का प्रयास किया जा रहा है।
  4. रोशनी का त्यौहार: दिवाली के समय भारत का दृश्य अद्भुत होता है। इस समय भारत अंतरिक्ष से भी रोशनी के एक बड़े समुद्र की तरह दिखता है, जो इसकी भव्यता को दर्शाता है।
  5. दिवाली की अर्थव्यवस्था: दिवाली के समय बाजारों में भारी खरीदारी होती है। इसे भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए सबसे बड़े व्यापारिक मौसम के रूप में देखा जाता है।

दिवाली के अज्ञात तथ्य (Diwali Unknown Facts in Hindi)

  1. महाभारत से जुड़ाव: बहुत कम लोग जानते हैं कि दिवाली का महाभारत के पांडवों से भी संबंध है। जब पांडव अपने 12 वर्षों के वनवास और 1 वर्ष के अज्ञातवास के बाद लौटे, तब उनके स्वागत के लिए दीप जलाए गए थे।
  2. वैदिक काल में दिवाली: दिवाली का उल्लेख प्राचीन वैदिक साहित्य में भी मिलता है। इसे यज्ञ और हवन के समय मनाया जाता था।
  3. अन्नकूट पर्व: गोवर्धन पूजा के दिन अन्नकूट पर्व मनाया जाता है। इस दिन 56 प्रकार के व्यंजनों का भोग लगाया जाता है, जिसे ‘छप्पन भोग’ कहा जाता है।
  4. दिवाली और व्यापार: दिवाली के समय व्यापारी अपने पुराने बही खातों को बंद कर नए खातों की शुरुआत करते हैं। इसे शुभ मानते हुए लक्ष्मी पूजा की जाती है।
  5. दिवाली का सांस्कृतिक महत्व: दिवाली न केवल धार्मिक बल्कि सांस्कृतिक और सामाजिक दृष्टिकोण से भी महत्वपूर्ण है। यह त्योहार भारतीय समाज की एकता और विविधता को दर्शाता है।

निष्कर्ष

दिवाली का त्योहार न केवल भारत में बल्कि पूरे विश्व में धूमधाम से मनाया जाता है। इसके धार्मिक, सांस्कृतिक और सामाजिक महत्व को जानना हमारे लिए आवश्यक है। इन तथ्यों के माध्यम से हम दिवाली के बारे में और अधिक जान सकते हैं और इसे और अधिक समझ सकते हैं। आइए, इस दिवाली को हर्षोल्लास और समृद्धि के साथ मनाएं और अपने जीवन को रोशनी और खुशियों से भर दें।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Scroll to Top