India InfoNews

South Africa की कम्पनी Kleos Space, इसरो के माध्यम से अपने satellites लॉन्च कराने जा रहा है।

Space News in hindi
Space News in hindi

South Africa की कम्पनी Kleos Space, इसरो के माध्यम से अपने satellites लॉन्च कराने जा रहा है।

Space News in hindi

Kleos Space (ASX: KSS) South Africa की कम्पनी, इसरो लॉन्च साइट के लिए पहले उपग्रहों की शिपिंग Date की पुष्टि करता है।

Kleos Space (ASX: KSS) ने अपने चार स्काउटिंग मिशन उपग्रहों (Scouting Mission satellites) को एकीकरण और प्रक्षेपण स्थल पर 11 फरवरी को लॉन्च करने की तैयारी के लिए अधिकृत किया है।

Space News

अंतरिक्ष संचालित (space-powered) रेडियो फ्रीक्वेंसी टोही (reconnaissance) डेटा-ए-ए-सर्विस (data-as-a-service) कंपनी, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के PSLV C-49 Satellite Launch Vehicle के माध्यम से अपने पहले उपग्रहों को भारत के Chennai में Satish Dhawan अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च करेगी।

आज सुबह ASX को जारी एक अपडेट में, Kleos Space के CEO “Andy Bowyer” ने कहा, “हाल के वर्षों में व्यावसायिक लॉन्च की क्षमता में नाटकीय रूप से वृद्धि हुई है, लॉन्च की अस्थिरता (volatility) सभी अंतरिक्ष-आधारित कंपनियों के लिए एक चुनौती बनी हुई है। दिसंबर 2019 से लॉन्च में देरी के बावजूद, हम उपग्रहों को operational करने और जल्द से जल्द राजस्व उत्पन्न करने के लिए कड़ी मेहनत करते रहेंगे। “हमें विश्वास है कि Satellite की सही ऑर्बिट में पहुँचने से स्काउटिंग मिशन लॉन्च प्रदाता (ISRO) को फिर से चुनेंगे इससे हमारे Data के Long Term Value में वृद्धि होगी, क्योंकि  चुनौतीपूर्ण भूमध्यरेखीय क्षेत्रों पर Satellite Launch का charge ISRO का world में सबसे कम है और सबसे PSLV की सफलता की दर दूसरे Satellite launch vehicle की दर से काफ़ी ज़्यादा है।”

इसे भी पढ़ें :   गुजरात सूचना : फाइनल ईयर के कॉलेज स्टूडेंट्स की टर्मिनल सेमेस्टर परीक्षा 25 जून से होगी - niodemy

 Satellite News in Hindi

Kleos satellites (उपग्रह) 37 डिग्री के झुकाव की orbit में प्रवेश करेंगा, जो रक्षा और सुरक्षा ग्राहकों के लिए महत्वपूर्ण शिपिंग क्षेत्रों को कवर करेगा, जिसमें स्ट्रेट ऑफ होर्मुज (Strait of Hormuz), दक्षिण चीन सागर (South China Sea), ऑस्ट्रेलियाई तट (Australian coast), दक्षिणी अमेरिकी तट (Southern US coast) और साथ ही पूर्व और पश्चिम अफ्रीकी तट (East and West African coast) शामिल हैं।

Kleos “Scouting Mission satellites” जब लॉन्च होकर Operational हो जाएगा, यह उपग्रह एक तारामंडल (constellation) की नींव बनाएंगे, जो छिपी हुई समुद्री गतिविधि की वैश्विक तस्वीर पेश करेगा, स्वचालित पहचान प्रणाली (Automatic Identification System -AIS) के चालू होने पर सरकार और वाणिज्यिक संस्थाओं की खुफिया क्षमता को बढ़ावा मिलेगा, जैसे Images अस्पष्ट हों या लक्ष्य से बाहर गश्ती रेंज इन सभी को इस Satellite के माध्यम से कवर किया जा सकेगा।

इसे भी पढ़ें :   IAF को 200 Fighter Jets की ज़रूरत है लेकिन मोदी सरकार ने रक्षा बजट कम कर दिया

Indian Space Power

अपने स्वतंत्र maritime intelligence data products से समुद्र में अवैध गतिविधियों का पता लगाने में काफी सुधार होगा, जिसमें ड्रग और तस्करी, अवैध मछली पकड़ने और समुद्री डकैती शामिल हैं।

“हमारा independent रेडियो frequency intelligence डेटा Government और security Agencies के लिए अत्यधिक attractive है, इसके द्वारा illegal समुद्री गतिविधि का पता लगाया जा सकता है, मौसम ख़राब होने पर vessel से प्रसारण ट्रांसपोंडर प्रणाली का उपयोग किया जा सकता है।”

ground सर्विस provider के साथ समुद्री geolocation डेटा downlink का पोस्ट-लॉन्च परीक्षण पूरा हो जाने के बाद, कंपनी initial customer के साथ अलग-अलग प्रकार के contracts से revenue generate करेगी।
एक $630,000 का दिसंबर 2019 में contract किया गया और जनवरी 2020 में प्राप्त हुआ – ASX update

ISRO mission 2020

इनमें अर्थलैब (EarthLab) के साथ MOUs – बीमा क्षेत्र के लिए commercial applications विकसित करना, AIS प्रदाता Spire Global के साथ समुद्री सुरक्षा सहयोग और दक्षिण अमेरिकी डेटा इंटीग्रेटर्स के साथ तीन commercial pre-order (वाणिज्यिक पूर्व-आदेश) contracts (अनुबंध) शामिल हैं।

कंपनी ने एक अज्ञात (undisclosed) देश के साथ सहयोगात्मक समझौतों (collaborative agreements) पर हस्ताक्षर किए हैं जो कि देश की समुद्री भू-स्थानिक खुफिया क्षमताओं को बढ़ाने के लिए क्लेओस स्काउटिंग मिशन डेटा (Kleos Scouting Mission data) का उपयोग करना चाहता है, और यूके जियोस्पेशियल इंटेलिजेंस एंड एनालिसिस कंपनी “Geollect” के साथ चैनल पार्टनर और डेटा इंटीग्रेटर समझौते किया गया है, जो Kleos डेटा को बेहतर बनाने के लिए एकीकृत करेगा जो की इसकी dark vessel पर नज़र रखने की क्षमता और analytical intelligence generate करेगा।

इसे भी पढ़ें :   Truecaller, Truecaller APK Download, truecaller premium apk, Download Truecaller APK, Truecaller क्या है? और यह कैसे काम करता है?

ISRO news in Hindi

पूरी तरह से Kleos के स्वामित्व वाली अमेरिकी subsidiary कंपनी अमेरिकी रक्षा और सुरक्षा सरकारी विभागों, एजेंसियों और उद्योगों में अपने समुद्री ISR data को integrate करने और बेचने के लिए भी बनाई गई है।

अमेरिकी subsidiary, Kleos Space Inc, Kleos को अमेरिकी सरकार के वित्तपोषण और परियोजनाओं तक पहुंचने में सक्षम बनाता है जो की अमेरिकी संस्थाओं तक सीमित हैं, जैसे कि Small Business Innovation Research (SBIR) funding, US Air Force Accelerator program और federal defence projects

Tags – Defence News in Hindi, Defence News,  ISRO, ISRO news, ISRO Power, ISRO next Mission, defence news hindi mai, defence news hindi me, defence news hindi, indian defence news hindi, defence news in hindi today, india defence news hindi, defence news in hindi, latest defence news update hindi, defence news in hindi 2020, Satish Dhawan Space Centre

Comment here