कुतुब मीनार की ऊंचाई कितनी है | Qutub Minar Ki Unchai Kitni Hai | Kutub Minar Ki Unchai

Kutub Minar Ki Unchai Kitni Hai: दोस्तो, अगर आप लोग दिल्ली के कुतुब मीनार की ऊँचाई के बारे में जानकारी चाहते हैं और जानना चाहते हैं कि Qutub Minar Ki Unchai Kitni Hai तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। यहाँ पर विस्तृत जानकारी दी गई है।

कुतुब मीनार की ऊंचाई:

कुतुब मीनार की कुल ऊंचाई 72.5 मीटर (237.86 फीट) है। जिसमें गुंबद की ऊंचाई 14.3 मीटर (47 फीट), आधार व्यास की ऊंचाई 14.3 मीटर (47 फीट) और शीर्ष व्यास की ऊंचाई 3.7 मीटर (12 फीट) है। इसमें कुल 5 मंजिलें हैं। कुतुब मीनार दुनिया की सबसे ऊँची ईंट की मीनार है। इसका निर्माण 12वीं शताब्दी में कुतुब-उद-दीन ऐबक ने शुरू करवाया था। इसमें 379 सीढ़ियां हैं।

  • कुल ऊंचाई: 72.5 मीटर (237.86 फीट)
  • मंजिलों की संख्या: 5 मंजिलें
  • गुंबद की ऊंचाई: 14.3 मीटर (47 फीट)
  • आधार व्यास: 14.3 मीटर (47 फीट)
  • शीर्ष व्यास: 3.7 मीटर (12 फीट)

कुतुब मीनार का विवरण:

  • कुतुब मीनार दुनिया की सबसे ऊँची ईंट की मीनार है।
  • इसका निर्माण 12वीं शताब्दी में कुतुब-उद-दीन ऐबक ने शुरू करवाया था।
  • मीनार लाल बलुआ पत्थर और संगमरमर से बनी है।
  • इसमें 379 सीढ़ियां हैं।
  • मीनार के आधार का व्यास 14.3 मीटर (47 फीट) और शीर्ष पर 3.7 मीटर (12 फीट) है।
  • मीनार की दीवारें 4 से लेकर 0.3 मीटर (13 से 1 फीट) तक मोटी हैं।
  • प्रत्येक मंजिल पर बालकनी और मेहराबदार खिड़कियां हैं।
  • मीनार के शीर्ष पर एक सुंदर गुंबद है।

कुतुब मीनार को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया है। यह भारत के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है।

कुतुब मीनार के रोचक तथ्य:

  • कुतुब मीनार का निर्माण कार्य 1193 में शुरू हुआ था और 1368 में पूरा हुआ था।
  • मीनार का नाम कुतुब-उद-दीन ऐबक के दामाद, इल्तुतमिश के नाम पर रखा गया है।
  • मीनार का उपयोग मुसलमानों द्वारा नमाज के लिए बुलावा देने के लिए किया जाता था।
  • मीनार पर कई शिलालेख हैं जो इसकी history और निर्माण के बारे में जानकारी देते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top