Indian Republic Day | भारतीय गणतंत्र दिवस पर निबंध | 26 जनवरी 2021 पर निबंध | Essay On Republic Day of India | 26 January Essay in Hindi | Essay On Republic Day of India in Hindi | 26 January Essay | Republic Day of India Speech in Hindi | भारतीय गणतंत्र दिवस का भाषण | भाषण | निबंध | 26 January Speech in Hindi

भारतीय गणतंत्र दिवस26 जनवरी 2021 पर निबंध और भाषण (Republic Day of India in Hindi | Essay | Speech) : दोस्तों, इस पोस्ट में हम भारतीय गणतंत्र दिवस – 26 जनवरी 2021 पर निबंध (Speech | Essay On Republic Day of India in Hindi) पब्लिश करेंगे, जिसको आप अपने school Speech, भाषण या Exam में इस्तेमाल कर सकते हैं। आइए शुरू करते हैं 26 January Essay in Hindi | Essay On Republic Day of India in Hindi :

भारत की आज़ादी के बाद से हर साल 26 जनवरी को भारतीय गणतंत्र दिवस (Indian Republic Day) के रूप में मनाया जाता है। गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी का दिन सभी भारतीयों के लिए गौरव और शान का प्रतीक है। यह दिन भारत के एकता, भाई-चारा और सर्व धर्म सम्भव का प्रतीक है। 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस – Gantantra Divas) को हर भारतीय धूम धाम और हर्षोंउल्लास के साथ मनाता है।

Republic Day of India, 26 January Essay and Speech in Hindi
Republic Day of India, 26 January Essay and Speech in Hindi

आज़ादी के बाद हमारे प्यारे भारत देश को 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस – Gantantra Divas) के दिन ही अपना संविधान प्राप्त हुआ था, अपना संविधान मिलने के बाद ही हिंदुस्तान एक संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य बना था। संविधान दिवस की याद में ही हम सब 26 जनवरी को भारत के गणतंत्र दिवस (Indian Republic Day) के रूप में मनाते हैं।

Table of Contents show

गणतंत्र दिवस के बारे में /≈Republic Day of India 2021

आज़ादी के पहले कई सालों तक भारत के सम्पूर्ण हिस्से में अंग्रेज़ों (ब्रिटिश साम्राज्य) का क़ब्ज़ा था और देश की जानता उनके अत्याचार से परेशान हो चुकी थी। इसके बाद बहुत बलिदानों और संघर्षों के बाद भारत और भारत की जनता 15 अगस्त 1947 को ब्रिटिश साम्राज्य के अत्याचार से आजाद हुई।

आज़ादी मिलने के बाद भारत को अपना रास्ता ख़ुद बनाना था। इसीलिए भारत के आज़ादी पसंद नेताओं ने एक संविधान सभा का गठन किया, ताकि भारत को अपना संविधान मिल सके। संविधान सभा की ढाई साल की मेहनत के बाद आख़िरकार भारत को 26 जनवरी 1950 को अपना संविधान मिल गया।

संविधान सभा की जानकारी /≈ड्राफ्टिंग कमेटी

आज़ादी के बाद जब भारत को अपने संविधान की ज़रूरत पड़ी तो इसको तैयार करने के लिए एक ड्राफ्टिंग कमेटी बनाई गई थी, इस ड्राफ्टिंग कमेटी का काम था की वह भारत देश के लिए एक ऐसे सर्वमान्य संवैधानिक ढाँचे का निर्माण करे, जिसके बल पर भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक और सर्व धर्मसंभाव गणराज्य बन सके।

Read More :   नवरात्रि क्यों मनाई जाती हैं? जानें चैत्र नवरात्रि का महत्व, तारीख़ और पूजन विधि

इस ड्राफ्टिंग कमेटी के अध्यक्ष डॉ बी आर अम्बेडकर को बनाया गया था। डॉ बी आर अम्बेडकर ने भारत के लिए बनाए गए नए संविधान को 4 नवंबर 1947 कि दिन असेम्ब्ली में प्रस्तुत किया था। इसके बाद कुछ सुधार और विचार-विमर्श के बाद 26 जनवरी 1950 को इस संविधान को भारत में पूर्ण रूप से अंगीकार कर लिया गया था। इसी की याद में हम सब हर साल 26 जनवरी के दिन भारत का गणतंत्र दिवस मनाते हैं।

गणतंत्र दिवस का आयोजन समारोह /Indian Republic Day Celebration /Republic Day Essay in Hindi

26 जनवरी के दिन पूरे देश में गणतंत्र दिवस को धूम-धाम से मनाया जाता है। सभी शैक्षणिक संस्थानों, परिसरों इत्यादि में ध्वजारोहण किया जाता है। 26 जनवरी के दिन भारत के सभी लोग और सभी छात्र भारत गणराज्य को शांतिपूर्ण और विकसित राष्ट्र बनाने का संकल्प करते हैं। इसके अलावा 26 जनवरी को हमारे गणतंत्र दिवस का सबसे बड़ा आयोजन भारत सरकार द्वारा दिल्ली के लाल क़िला पर किया जाता है।

भारत सरकार द्वारा आयोजित किए गए गणतंत्र दिवस के इस अवसर पर कई कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर राजपथ पर भारतीय सशस्त्र बलों की परेड का आयोजन भी होता है। भारतीय सशस्त्र बलों की परेड दिल्ली के विजय चौक से शुरू होकर इंडिया गेट पर समाप्त होती है।

26 जनवरी यानी भारत के गणतंत्र दिवस के दिन भारत की सभी सेनाएँ अपने शौर्य और पराक्रम का प्रदर्शन करते हैं। इसके साथ ही भारत की सेनाओं के हथियार की झाँकी भी निकाली जाती है।

26 जनवरी यानी भारत के गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारतीय सशस्त्र बलों की परेड के बाद, सभी राज्यों और कुछ केंद्रीय मंत्रालयों की झाँकी भी प्रदर्शित होती है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रदर्शित की जाने वाली यह सभी झाँकियाँ भारत के वसुधैव कुटुम्बकम (Vasudhaiv kutumbakam) की संस्कृति और परंपरा का प्रदर्शन करती हैं। इसी के साथ राजपथ पर प्रतिभागियों द्वारा भारत के लोक नृत्य और गीत भी प्रस्तुत किए जाते हैं।

भारत सरकार ने गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी और इसके 1 दिन पहले यानी 25 जनवरी को पूरे देश में राजपत्रित सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है। 26 जनवरी (भारतीय गणतंत्र दिवस) के अवसर पर भारत के सभी शैक्षणिक संस्थानों (जैसे स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटीज) में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजन के साथ भारतीय राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है और भारत का राष्ट्रगान गाया जाता है।

गणतंत्र दिवस 2021 (Republic Day 2021) | 26 जनवरी 2021

26 जनवरी 2021 (गणतंत्र दिवस 2021) यानी आज के दिन हमारे लोकतांत्रिक भारत देश की जनता भारत के संविधान का 71वाँ दिवस हर्षोंउल्लास के साथ मना रही है। आज का दिन हम सभी भारतवासियों के लिए अत्यंत ख़ुशी का दिन है। 1950 को आज के दिन ही भारत देश में एक ऐसे सर्वमान्य संविधान को लागू किया गया था, जिसके दम पार आज हमारा भारत गणराज्य दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश बन पाया है।

आगे अब हम आपको भारत के गणतंत्र दिवस पर निबंध (Republic Day Essay in Hindi) और गणतंत्र दिवस भाषण (Republic Day Speech in Hindi) के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले और इंटरनेट पर सर्च किए जाने वाले सवालों के जवाब देंगे। नीचे हमें 26 जनवरी के बारे में खोजे जा रहे प्रश्नों का संग्रह तैयार किया है, ताकि भारत के गणतंत्र दिवस के बारे में आपको पूरी जानकारी मिल सके। आइए जानते हैं भारत के गणतंत्र दिवस के बारे में अक्सर पूछें जाने वाले प्रश्न :

Republic Day of India FAQs in Hindi

भारत का गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को क्यों मनाया जाता है? इसके पीछे 2 कारण है, जिनके बारे में नीचे जानकारी दी गई है :
  • पहला कारण : 26 जनवरी 1950 को भारत को अपना संविधान मिला था। भारत के संविधान दिवस के तौरपर भारत के एक लोकतांत्रिक गणराज्य बनने की ख़ुशी में हम सब 26 जनवरी को भारत के गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं।
  • दूसरा कारण : 26 जनवरी को भारत के संविधान दिवस के रूप में इसलिए चुना गया था क्योंकि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने वर्ष 1930 में इसी दिन यानी 26 जनवरी 1930 को हिंदुस्तान को एक पूर्ण स्वराज घोषित किया था। यही वजह है की 26 जनवरी को ही हर साल हम सब भारत का गणतंत्र दिवस (Republic Day of India) मनाते हैं।
Read More :   Happy Holi 2020: Quotes, Wishes, Images, Messages, Facebook & Whatsapp status (हिंदी में)
26 जनवरी 1950 को भारत सरकार ने ब्रिटिश सरकार द्वारा लागू किए गए भारत सरकार अधिनियम को हटाकर भारत का अपना संविधान लागू किया था। इसीलिए हम सब 26 जनवरी को हर साल गणतंत्र दिवस मनाते हैं। इसके अलावा दूसरा कारण ये है की भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने 26 जनवरी 1930 को भारत को एक पूर्ण स्वराज घोषित किया था।
आज़ादी के बाद 26 जनवरी 1950 को हमारे देश में अपना संविधान लागू किया गया था, इसी दिन यानी 26 जनवरी 1950 को भारत में पहली बार गणतंत्र दिवस मनाया गया था। इसीलिए हम हर साल 26 जनवरी को भारत के गणतंत्र दिवस के तौर पर मनाते हैं। 26 जनवरी 2021 को भारत का 72वाँ गणतंत्र दिवस मनाया जाएगा।
आज़ादी मिलने के बाद भारत के पास अपना संविधान नही था, उस समय भारत में अंग्रेज़ों का बनाया गया भारत सरकार अधिनियम लागू था। 26 जनवरी 1950 को भारत सरकार ने अंग्रेज़ों के द्वारा लागू किए गए भारत सरकार अधिनियम को हटा कर अपना संविधान लागू किया था। भारत का संविधान बनाने की ज़िम्मेदारी डॉक्टर वी॰ आर॰ अम्बेडकर के नेतृत्व में 26 नवम्बर 1949 को संविधान सभा का गठन किया था। संविधान सभा के द्वारा बनाए गए संविधान को ही 26 जनवरी 1950 के दिन पूरे भारत में लागू किया गया था।
26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) के दिन भारत सरकार की तरफ़ से भारत की अमूल्य धरोहर लाल क़िला में भारत के राष्ट्रपति झंडा फहराते (Flag Unfurling) हैं। राष्ट्रपति के द्वारा झंडा फहराने (Flag Unfurling) के उपरांत राष्ट्रगान गाया जाता है, उसके बाद ही अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।
​ध्वजारोहण (Flag Hoisting) 15 अगस्त यानी भारत स्वतंत्रता दिवस के दिन किया जाता है। इस दिन भारत के प्रधानमंत्री लाल किया में ​ध्वजारोहण (Flag Hoisting) करते हैं। ​ध्वजारोहण (Flag Hoisting) के समय भारत के राष्ट्रीय ध्वज (तिरंगा) को ऊपर खींच कर फहराया जाता है।
Read More :   Holi 2021 - होली क्यूँ मनाई जाती है? होली के बारे में जानकारी, 2021 Holi Date, Rangpanchami
झंडा फहराना (Flag Unfurling) : गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी के दिन भारत के राष्ट्रपति द्वारा लालक़िला में झंडा फहराया (Flag Unfurling) जाता है। झंडा फहराने (Flag Unfurling) का मतलब है की जब राष्ट्रीय ध्वज ऊपर बंधा रहता है, उसे सिर्फ़ खोला जाता है, इसी को झंडा फहराना (Flag Unfurling) कहते हैं। ध्वजारोहण को अंग्रेजी में Flag Hoisting कहते हैं जबकि झंडा फहराने को अंग्रेजी में Flag Unfurling कहते हैं।

गणतंत्र दिवस पर निबंध |≈ 26 जनवरी 2021 पर निबंध |≈ Republic Day Essay in Hindi |≈ 26 January Essay in Hindi

दोस्तों, इस लेख को हमने ऐसा बनाया की आप इसका इस्तेमाल गणतंत्र दिवस पर निबंध (Republic Day Essay in Hindi) के तौर पर कर सकते हैं। अगर आप 26 जनवरी 2021 पर निबंध (26 January Essay in Hindi) इंटरनेट पर खोज रहे हैं, तो इस पोस्ट से आपको खोज पूरी हो जाएगी।

अब आपको 26 जनवरी 2021 पर निबंध (26 January Essay in Hindi) के लिए किसी और वेबसाइट पर नही जाना पड़ेगा। हम उम्मीद करते हैं की आप हमारे द्वारा लिखे गए गणतंत्र दिवस पर निबंध (Republic Day Essay in Hindi) को ज़रूर इस्तेमाल करेंगे। इस निबंध को आप अपने School Exam या School Test के लिए कर सकते हैं। या फिर अगर आप किसी निबंध प्रतियोगिता (Essay Competition) में भाग लेने जा रहे हैं, तब भी हमारा यह लेख गणतंत्र दिवस पर निबंध (Republic Day Essay in Hindi) आपकी मदद कर सकता है।

गणतंत्र दिवस भाषण (Republic Day Speech in Hindi) |≈ 26 जनवरी 2021 भाषण (26 January Speech in Hindi)

हमारे इस लेख “गणतंत्र दिवस भाषण (Republic Day Speech in Hindi)” को पढ़ने के बाद आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आप School या College में Speech देनी है, तो आप हमारा यह लेख “26 जनवरी 2021 भाषण (26 January Speech in Hindi)” आपके काम आएगा।

हमने इस लेख को ऐसे लिखा है की आप इसका किसी भी जगह पर speech (भाषण) देने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आपको 26 जनवरी यानी भारत के गणतंत्र दिवस पर speech (भाषण) देना है, तो यह पोस्ट “26 जनवरी 2021 भाषण (26 January Speech in Hindi)” आपकी speech (Gantantra Divas Bhashan) के लिए बिल्कुल सही है।

निष्कर्ष : भारत का गणतंत्र दिवस (Republic Day of India) | 26 जनवरी

इस पोस्ट में हमने आपको भारत का गणतंत्र दिवस (Republic Day of India) के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है। इस पोस्ट को आप किसी लेख या निबंध (Essay), भाषण (Speech) के तौर पर कर सकते हैं। हमें उम्मीद है की आपको हमारी यह पोस्ट गणतंत्र दिवस भाषण (Republic Day Speech in Hindi) | 26 जनवरी स्पीच ज़रूर पसंद आई होगी।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट गणतंत्र दिवस निबंध (Republic Day Essay in Hindi) | 26 जनवरी पर निबंध (26 January Essay in Hindi) पसंद आई हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया में ज़रूर साझा करें।

हमारी कोशिश रहती है की हम आपको गणतंत्र दिवस निबंध (Republic Day Essay in Hindi) की पूरी जानकारी दें, ताकि 26 जनवरी पर भाषण (26 January Speech in Hindi) के लिए आपको किसी और वेबसाइट पर नही जाना पड़े।