मंदिर का प्रेत (Ghost Story in Hindi | भूत की कहानी हिंदी में)

एक प्राचीन मंदिर के बारे में कहा जाता था कि वहाँ एक प्रेत वास करता है। लोग कहते थे कि रात के समय वहाँ जाने वाला कभी वापस नहीं आता।

एक बार एक जिज्ञासु युवक, दीपक, ने मंदिर में रात बिताने का फैसला किया। उसने सोचा कि वह इन अफवाहों की सच्चाई का पता लगाएगा।

जैसे ही रात हुई, दीपक को मंदिर के अंदर अजीब सी हरकतें महसूस होने लगीं। उसने देखा कि एक छाया उसके पीछे-पीछे चल रही है। दीपक ने डरते हुए पूछा, “कौन हो तुम?”

छाया ने कहा, “मैं इस मंदिर का प्रेत हूँ। इस मंदिर में मेरी हत्या की गई थी और अब मेरी आत्मा को शांति नहीं मिली है।”

दीपक ने पूछा, “मैं तुम्हारी कैसे मदद कर सकता हूँ?”

प्रेत ने कहा, “इस मंदिर में मेरी अस्थियों को एक गुप्त स्थान पर रखा गया है। अगर तुम उन्हें जलाकर मुझे शांति प्रदान कर सको तो मैं मुक्त हो जाऊंगा।”

दीपक ने किसी तरह हिम्मत दिखाते हुए अस्थियों को ढूंढा और उन्हें जलाया। उसके बाद उस प्रेत की आत्मा को शांति मिली और वह मंदिर अब सामान्य हो गया।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Scroll to Top